Category Archives: Uncategorized

Short Comments

Gurdwara Patshahi 6, Kurukshetra, Haryana

On January 19, 2014, I was in the historic city of Kurukshetra in Haryana State (India) for a research project… In this picture is seen the Gurdwara Patshahi 6.

January 20, 2014

———–

Amrit Prays for the world peace.

I wish all of my friends and foes a very happy new year… I pray for world peace… I desire that in this year, the human race will be able to control the biggest danger ever to the humanity, that is to say international terrorism… I hope that in this year, all religions and sects will help their followers to obtain the love of the God Almighty… The God is very caring, loving and merciful… May the God bless you!

January 1, 2014

———–

We have added a video to our YouTube Channel Jyotish Baare (Punjabi) ਜੋਤਿਸ਼ ਬਾਰੇ. ਭਵਿੱਖਬਾਣੀਆਂ ਅਤੇ ਜੋਤਿਸ਼ ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ…

December 16, 2013

———–

Universal Declaration of Human Rights

December 10, 2013

———–

'Amrit' Has A Think

December 9, 2013

———–

“Yesterday, you allowed an evil cultist to fool you on the name of religion. Yesterday, you let a racist to dupe you on the name of race. Yesterday, you permitted a hatemonger to deceive you on the name of language. Yesterday, you agreed to a politician to fool you on the name of nationality. Yesterday, you tolerated a bigot to bamboozle you on the name of gender. And, all those things are happening even today. They are happening today, because you allowed them to happen yesterday. And, sorry to say, they will be happening tomorrow as well, because you are allowing them to take place today.” – Amrit Pal Singh ‘Amrit’. Read More in What You Tolerate Today Will Go On Tomorrow.

December 1, 2013

———–

अवधूत दत्तात्रेय जी ने राजा यदु को उपदेश करते हुये कहा था: –

आशा हि परमं दु:खं
नैराश्यम परमं सुखम।।

आशा रखना ही सबसे बड़ा दुख है और आशा-रहित होना ही सबसे बड़ा सुख है।

बात बड़ी गहरी है।

किसी वस्तु आदि की आशा करते करते, यदि वह मिल भी जाये, तो मन कहता है कि इसमें ख़ास क्या? यह तो मिलनी ही थी। इस की तो पहले से ही पूरी-पूरी आशा थी। कथित सुख मिलने पर भी भीतर से ख़ुशी न-हुई-सी ही हुई।

किसी वस्तु आदि की आशा करते करते, यदि वह न मिली, तो दुख ही दुख महसूस होता है। मन कहता है कि मैं इतनी आशा लगा कर बैठा था। यह तो मेरा अधिकार था। दुख है, बहुत दुख है कि यह मुझे नही मिली।

यदि किसी वस्तु आदि की आशा की ही न गई हो, और वस्तु न मिले, तो दुख कैसा? और, यदि किसी वस्तु आदि की आशा की ही न गई हो, फिर भी वह मिल जाये, तो क्या कहना ! आशा न की थी, नैराश्य रहे, और दुख से बचे रहे।

अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’

नवम्बर २६, २०१३

———–

ਅਵਧੂਤ ਦੱਤਾਤ੍ਰੇਅ ਜੀ ਨੇ ਰਾਜਾ ਯਦੂ ਨੂੰ ਉਪਦੇਸ਼ ਕਰਦਿਆਂ ਆਖਿਆ ਸੀ: –

ਆਸ਼ਾ ਹਿ ਪਰਮਮ ਦੁਖਮ
ਨੈਰਾਸ਼ਯਮ ਪਰਮਮ ਸੁਖਮ॥

ਆਸਾ ਰੱਖਣਾ ਹੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਦੁੱਖ ਹੈ ਤੇ ਆਸਾ-ਰਹਿਤ ਹੋਣਾ ਹੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਸੁੱਖ ਹੈ ।

ਗੱਲ ਬੜੀ ਡੂੰਘੀ ਹੈ।

ਕਿਸੀ ਵਸਤੂ ਆਦਿ ਦੀ ਆਸਾ ਕਰਦੇ-ਕਰਦੇ, ਜੇ ਉਹ ਮਿਲ ਵੀ ਜਾਏ, ਤਾਂ ਮਨ ਆਖਦਾ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਵਿੱਚ ਖ਼ਾਸ ਕੀ? ਇਹ ਤਾਂ ਮਿਲਣੀ ਹੀ ਸੀ । ਇਸ ਦੀ ਤਾਂ ਪਹਿਲਾਂ ਤੋਂ ਹੀ ਪੂਰੀ ਪੂਰੀ ਆਸ ਸੀ । ਅਖੌਤੀ ਸੁੱਖ ਮਿਲਣ ਨਾਲ ਵੀ ਅੰਦਰੋਂ ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਨਾ ਹੋਈ ਵਰਗੀ ਹੀ ਹੋਈ।

ਕਿਸੀ ਵਸਤੂ ਆਦਿ ਦੀ ਆਸਾ ਕਰਦੇ-ਕਰਦੇ, ਜੇ ਉਹ ਨਾ ਮਿਲੀ, ਤਾਂ ਦੁੱਖ ਹੀ ਦੁੱਖ ਮਹਿਸੂਸ ਹੁੰਦਾ ਹੈ । ਮਨ ਆਖਦਾ ਹੈ ਕਿ ਮੈਂ ਇੰਨੀ ਆਸ ਲਗਾ ਕੇ ਬੈਠਾ ਸੀ। ਇਹ ਤਾਂ ਮੇਰਾ ਹੱਕ ਸੀ । ਦੁੱਖ ਹੈ, ਬਹੁਤ ਦੁੱਖ ਹੈ ਕਿ ਇਹ ਮੈਨੂੰ ਨਹੀਂ ਮਿਲੀ।

ਜੇ ਕਿਸੇ ਵਸਤੂ ਆਦਿ ਦੀ ਆਸਾ ਕੀਤੀ ਹੀ ਨਾ ਗਈ ਹੋਏ, ਤੇ ਉਹ ਵਸਤੂ ਨਾ ਮਿਲੇ, ਤਾਂ ਦੁੱਖ ਕੇਹਾ? ਅਤੇ, ਜੇ ਕਿਸੀ ਵਸਤੂ ਆਦਿ ਦੀ ਆਸ ਕੀਤੀ ਹੀ ਨਾ ਗਈ ਹੋਏ, ਫਿਰ ਵੀ ਉਹ ਮਿਲ ਜਾਏ, ਤਾਂ ਕੀ ਕਹਿਣਾ ! ਆਸ ਨਾ ਕੀਤੀ, ਨਿਰ-ਆਸ ਰਹੇ, ਤੇ ਦੁੱਖ ਤੋਂ ਬਚੇ ਰਹੇ ।

ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’

ਨਵੰਬਰ ੨੬, ੨੦੧੩

———–

“My definition of Freedom takes account of every right mentioned in the Universal Declaration of Human Rights, adopted by the United Nations on December 10, 1948. I also include in this definition the freedom from sectarian blind faith. Rights and freedoms mentioned in the Universal Declaration of Human Rights are the physical aspect of freedom and the freedom from sectarian blind faith is its psychological and academic aspect. The goal of physical as well as psychological and academic freedom can be reached right the way through the mysticism, that is to say the mystical experience of Ultimate Reality or the God.” – Amrit Pal Singh ‘Amrit’

November 16, 2013

———–

“Peace for Israel means security, and we must stand with all our might to protect her right to exist, its territorial integrity and the right to use whatever sea lanes it needs. Israel is one of the great outposts of democracy in the world, and a marvelous example of what can be done, how desert land can be transformed into an oasis of brotherhood and democracy. Peace for Israel means security, and that security must be a reality.” – Dr. Martin Luther King, Jr. (1929 – 1968)

November 10, 2013

———–

We have added a video to our YouTube Channel ਪਾਪ ਕਮਾਵਦਿਆ ਤੇਰਾ ਕੋਇ ਨ ਬੇਲੀ ਰਾਮ (ਕੀਰਤਨ)

November 2, 2013

———–

We have added a video to our YouTube Channel ਹੁਣ ਤਾਂ ਬੁਝਾ ਦੇ ਦੀਵਾ ਵੇ ਅੜਿਆ (ਕਾਵਿ) (Punjabi Poetry)

November 2, 2013

———–

More: Previous Comments

Previous Short Comments

More: Next Comments

———–

We have added three new videos to our YouTube Channel:

  1. ਜਾਗਰਤ, ਸੁਫਨਾ ਅਤੇ ਨੀਂਦ ਦੀ ਅਵਸਥਾ ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ (ਭਾਗ ਦੂਜਾ)
  2. ਜਾਗਰਤ, ਸੁਫਨਾ ਅਤੇ ਨੀਂਦ ਦੀ ਅਵਸਥਾ ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ (ਭਾਗ ਤੀਜਾ)
  3. ਜਾਗਰਤ, ਸੁਫਨਾ ਅਤੇ ਨੀਂਦ ਦੀ ਅਵਸਥਾ ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ (ਚੌਥਾ ਤੇ ਆਖ਼ਰੀ ਭਾਗ)

October 8, 2013

———–

We have added a video to our YouTube Channel ਜਾਗਰਤ, ਸੁਫਨਾ ਅਤੇ ਨੀਂਦ ਦੀ ਅਵਸਥਾ ਬਾਰੇ ਚਰਚਾ (ਭਾਗ ਪਹਿਲਾ)

October 5, 2013

———–

Sikh Youth Killed By Terrorists in Kenya Massacre

September 22, 2013

———–

Global terrorism is the biggest danger the humanity ever faced. Stop terrorism. Do… Or die…

अंतर-राष्ट्रीय आतंकवाद मानवता के सामने आया अब तक का सबसे बड़ा ख़तरा है। आतंकवाद को रोको। करो… या मरो…

ਅੰਤਰਰਾਸ਼ਟਰੀ ਦਹਿਸ਼ਤਗਰਦੀ ਮਨੁੱਖਤਾ ਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਆਇਆ ਹੁਣ ਤੱਕ ਦਾ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਖ਼ਤਰਾ ਹੈ । ਦਹਿਸ਼ਤਗਰਦੀ ਨੂੰ ਰੋਕੋ । ਕਰੋ… ਜਾਂ ਮਰੋ…

گلوبل دہشتگردی انصانیت کو درپیش اب تک کا سب سے بڑھا خطرہ ہے. دہشتگردی کو روکو. کرو یا مرو
September 15, 2013

———–

ਭਾਰਤੀਅਤਾ ਦਾ ਅਰਥ ਹੈ ਭਾਰਤੀ ਬੋਲੀ, ਭਾਰਤੀ ਪਹਿਰਾਵਾ, ਭਾਰਤੀ ਖਾਣਾ, ਭਾਰਤੀ ਸਭਿਆਚਾਰ, ਭਾਰਤੀ ਸੰਗੀਤ, ਭਾਰਤੀ ਧਰਮ ਆਦਿ। ਹੁਣ ਅਸੀਂ ਸੋਚੀਏ ਕੀ ਅਸੀਂ ਭਾਰਤੀ ਹਾਂ?

ਸਤੰਬਰ ੧੪, ੨੦੧੩

———–

भारतीयता का अर्थ है भारतीय भाषा, भारतीय पहनावा, भारतीय खाना, भारतीय संस्कृति, भारतीय संगीत, भारतीय धर्म आदि। अब हम सोचें क्या हम भारतीय हैं?

सितम्बर १४, २०१३

———–

Indianness means, Indian language, Indian dress, Indian food, Indian culture, Indian music, Indian ‘Dharma’ etc. Think if we are Indians?

September 14, 2013

———–

ਦਿੱਲੀ ਸਾਮੂਹਕ ਬਲਾਤਕਾਰ ਮਾਮਲੇ ਵਿੱਚ ਅਦਾਲਤ ਵੱਲੋਂ ਸਾਰੇ ਦੋਸ਼ੀਆਂ ਨੂੰ ਮੌਤ ਦੀ ਸਜ਼ਾ ਬਿਲਕੁਲ ਸਹੀ ਫ਼ੈਸਲਾ ਹੈ ।

ਸਤੰਬਰ ੧੩, ੨੦੧੩

———–

दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में अदालत की तरफ़ से सभी दोषियों को मौत की सज़ा बिलकुल सही फैसला है।

सितम्बर १३, २०१३

———–

ਇਕਾਂਤ-ਵਾਸ ਦੀ ਡੂੰਘੀ ਗੁਫ਼ਾ ਵਿੱਚ ਸਾਲਾਂ-ਬੱਧੀ ਆਤਮ-ਚਿੰਤਨ ਰੂਪੀ ਤਪ ਕਰਨ ਮਗਰੋਂ ਇਵੇਂ ਮਹਿਸੂਸ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਜਿਵੇਂ ਓਅੰਕਾਰ ਤੋਂ ਬਿਨ੍ਹਾਂ ਸਭ ਕੁਝ ਬੇਅਰਥ ਹੈ ।

ਸਤੰਬਰ ੧੨, ੨੦੧੩

———–

एकान्त-वास की गहरी गुफा में सालों आत्म-चिन्तन रूपी तप करने के पश्चात यूँ महसूस होता है, जैसे ओंकार के बिना सब कुछ व्यर्थ है।

सितम्बर १२, २०१३

———–

ਅਜੀਬ ਸਮੱਸਿਆ ਹੈ । ਜੇ ਮੈਂ ਕਿਸੇ ਅਨਾਥ ਆਸ਼ਰਮ ਵਿੱਚ ਰਹਿਣਾ ਚਾਹੁੰਦਾ ਹਾਂ, ਤਾਂ ਉਹ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ ਕਿ ਮੈਂ 18 ਸਾਲ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਹਾਂ, ਇਸ ਲਈ ਅਨਾਥ ਆਸ਼ਰਮ ਵਿੱਚ ਨਹੀਂ ਰਹਿ ਸਕਦਾ । ਜੇ ਮੈਂ ਕਿਸੇ ਬਿਰਧ ਘਰ (ਓਲਡ ਏਜ ਹੋਮ) ਵਿੱਚ ਰਹਿਣਾ ਚਾਹੁੰਦਾ ਹਾਂ, ਤਾਂ ਉਹ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ ਕਿ ਮੈਂ ਅਜੇ 60 ਸਾਲ ਦਾ ਨਹੀਂ ਹੋਇਆ, ਇਸਲਈ ਬਿਰਧ ਘਰ ਵਿੱਚ ਨਹੀਂ ਰਹਿ ਸਕਦਾ । ਕੀ ਕੋਈ ਅਨਾਥ ਆਸ਼ਰਮ 18 ਤੋਂ 60 ਸਾਲ ਦੇ ਵਿਅਕਤੀਆਂ ਲਈ ਨਹੀਂ ਹੈ?

———–

अजीब समस्या है। अगर मैं किसी अनाथाल्य में रहना चाहता हूँ, तो वे कहते हैं कि मैं 18 साल से अधिक आयु का हूँ, इसलिए अनाथाल्य में नही रह सकता। अगर मैं किसी वृद्ध आश्रम में रहना चाहता हूँ, तो वे कहते हैं कि मैं अभी 60 वर्ष का नही हुया, इसलिए वृद्ध आश्रम में नही रह सकता। क्या कोई यतीमखाना 18 से 60 वर्ष के व्यक्तियों के लिए नही है?

———–

“ਜੋ ਰਾਜਾ ਪਰਜਾ ਨੂੰ ਧਰਮ-ਮਾਰਗ ਦੀ ਸਿੱਖਿਆ ਨਾ ਦੇ ਕੇ ਕੇਵਲ ਉਸ ਤੋਂ ਟੈਕਸ ਵਸੂਲ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਲੱਗਾ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ, ਉਹ ਕੇਵਲ ਪਰਜਾ ਦੇ ਪਾਪ ਦਾ ਹੀ ਭਾਗੀਦਾਰ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਤੇ ਆਪਣੇ ਐਸ਼ਵਰਜ ਤੋਂ ਹੱਥ ਤੋਂ ਬੈਠਦਾ ਹੈ।” (ਸਲੋਕ ੨੪, ਅਧਿਆਏ ੨੧, ਚੌਥਾ ਸਕੰਧ, ਸ੍ਰੀ ਮਦ ਭਾਗਵਤ ਪੁਰਾਣ)।

“जो राजा प्रजा को धर्म मार्ग की शिक्षा न देकर केवल उससे कर वसूल करने में लगा रहता है, वह केवल प्रजा के पाप का ही भागी होता है और अपने ऐश्वर्य से हाथ धो बैठता है।” (शलोक २४, अध्याय २१, चतुर्थ सकन्ध, श्रीमद भागवत पुराण)।

23-07-2013.

———–

ਗੰਗਾ ਕਿਨਾਰੇ ‘ਹਰਿ ਕੀ ਪਉੜੀ’ (ਹਰਿਦੁਆਰ) ਤੇ ਬੈਠ ਕੇ ਹਰੀ-ਚਰਚਾ ਵਿੱਚ ਸਾਰੀ ਰਾਤ ਗੁਜ਼ਾਰ ਦੇਣਾ ਕਿੰਨਾ ਚੰਗਾ ਹੈ ! ਦੁਨੀਆਂ ਦੀਆਂ ਫ਼ਜ਼ੂਲ ਗੱਲਾਂ ਵਿੱਚ ਵਕਤ ਬਰਬਾਦ ਕਰਨਾ ਕਿੰਨਾ ਮਾੜਾ ਹੈ !

गंगा किनारे ‘हरि की पौड़ी’ (हरिद्वार) पर बैठ कर हरि-चर्चा में सारी रात गुज़ार देना कितना अच्छा है ! दुनिया की फ़ज़ूल बातें में वक्त बर्बाद करना कितना बुरा है…

Amrit Pal Singh 'Amrit' at Hari Ki Pauri, Haridwar

———–

ਹਰ ਉਹ ਪਲ, ਜੋ ਤੇਰੀ ਯਾਦ ਤੋਂ ਬਗ਼ੈਰ ਬੀਤਿਆ, ਗੁਨਾਹ ਬਣ ਗਿਆ । ਜਿਉਂ-ਜਿਉਂ ਤੇਰੇ ਨਜ਼ਦੀਕ ਹੁੰਦਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹਾਂ, ਤਿਉਂ-ਤਿਉਂ ਆਪਣੇ ਕੀਤੇ ਗੁਨਾਹਾਂ ਦਾ ਅਹਿਸਾਸ ਵੀ ਤਿੱਖਾ ਹੁੰਦਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ ।

ਸੋਰਠਿ ਮਹਲਾ ੫ ॥ ਹਮ ਮੈਲੇ ਤੁਮ ਊਜਲ ਕਰਤੇ ਹਮ ਨਿਰਗੁਨ ਤੂ ਦਾਤਾ ॥ ਹਮ ਮੂਰਖ ਤੁਮ ਚਤੁਰ ਸਿਆਣੇ ਤੂ ਸਰਬ ਕਲਾ ਕਾ ਗਿਆਤਾ ॥੧॥ ਮਾਧੋ ਹਮ ਐਸੇ ਤੂ ਐਸਾ ॥ ਹਮ ਪਾਪੀ ਤੁਮ ਪਾਪ ਖੰਡਨ ਨੀਕੋ ਠਾਕੁਰ ਦੇਸਾ ॥ ਰਹਾਉ ॥ ਤੁਮ ਸਭ ਸਾਜੇ ਸਾਜਿ ਨਿਵਾਜੇ ਜੀਉ ਪਿੰਡੁ ਦੇ ਪ੍ਰਾਨਾ ॥ ਨਿਰਗੁਨੀਆਰੇ ਗੁਨੁ ਨਹੀ ਕੋਈ ਤੁਮ ਦਾਨੁ ਦੇਹੁ ਮਿਹਰਵਾਨਾ ॥੨॥ ਤੁਮ ਕਰਹੁ ਭਲਾ ਹਮ ਭਲੋ ਨ ਜਾਨਹ ਤੁਮ ਸਦਾ ਸਦਾ ਦਇਆਲਾ ॥ ਤੁਮ ਸੁਖਦਾਈ ਪੁਰਖ ਬਿਧਾਤੇ ਤੁਮ ਰਾਖਹੁ ਅਪੁਨੇ ਬਾਲਾ ॥੩॥ਤੁਮ ਨਿਧਾਨ ਅਟਲ ਸੁਲਿਤਾਨ ਜੀਅ ਜੰਤ ਸਭਿ ਜਾਚੈ ॥ ਕਹੁ ਨਾਨਕ ਹਮ ਇਹੈ ਹਵਾਲਾ ਰਾਖੁ ਸੰਤਨ ਕੈ ਪਾਛੈ ॥੪॥੬॥੧੭॥(੬੧੩, ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਸਾਹਿਬ ਜੀ)।

– ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’
ਅਪ੍ਰੈਲ ੧੪, ੨੦੧੩

———–

हर वह पल, जो तेरी याद के बिना बीता, गुनाह बन गया। जैसे-जैसे तुम्हारे नज़दीक होता जा रहा हूँ, वैसे-वैसे अपने किये गुनाहों का अहसास भी तेज़ होता जा रहा है।

सोरठि महला ५ ॥ हम मैले तुम ऊजल करते हम निरगुन तू दाता ॥ हम मूरख तुम चतुर सिआणे तू सरब कला का गिआता ॥१॥ माधो हम ऐसे तू ऐसा ॥ हम पापी तुम पाप खंडन नीको ठाकुर देसा ॥ रहाउ ॥ तुम सभ साजे साजि निवाजे जीउ पिंडु दे प्राना ॥ निरगुनीआरे गुनु नही कोई तुम दानु देहु मिहरवाना ॥२॥ तुम करहु भला हम भलो न जानह तुम सदा सदा दइआला ॥ तुम सुखदाई पुरख बिधाते तुम राखहु अपुने बाला ॥३॥ तुम निधान अटल सुलितान जीअ जंत सभि जाचै ॥ कहु नानक हम इहै हवाला राखु संतन कै पाछै ॥४॥६॥१७॥ (६१३, श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी)।

– अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’
अप्रैल १४, २०१३

———–

We have added these videos to our YouTube Channel:-

April 13, 2013

———–

ਕਿਸੇ ਯਤੀਮ ਦੇ ਮਨ ਵਿੱਚ ਇਹ ਤੀਬਰ ਇੱਛਾ ਛੁਪੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਕਿ ਕੋਈ ਇੱਕ ਵਿਅਕਤੀ ਤਾਂ ਉਸ ਦਾ ਆਪਣਾ ਹੋਵੇ । ਕਾਸ਼, ਇਹ ਯਤੀਮ ਸਮਝ ਜਾਏ ਕਿ ਇੱਕ ਪ੍ਰਭੂ ਤੋਂ ਬਿਨਾਂ ਕੋਈ ਵੀ ਆਪਣਾ ਨਹੀਂ ਹੋ ਸਕਦਾ ।

– ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’
ਅਪ੍ਰੈਲ ੧੩, ੨੦੧੩

———–

किसी यतीम के मन में यह तीव्र इच्छा छिपी होती है कि कोई एक व्यक्ति तो उस का अपना हो। काश, यह यतीम समझ जाए कि एक प्रभु के बिना कोई भी अपना नहीं हो सकता।

– अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’
अप्रैल १३, २०१३

———–

ਸ਼ਰੀਰ ਭਾਵੇਂ ਨਿਢਾਲ-ਜਿਹਾ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਸ਼ਰੀਰ ਦਾ ਰੋਗ ਭਾਵੇਂ ਜਾਣ ਦਾ ਨਾਮ ਹੀ ਨਹੀਂ ਲੈ ਰਿਹਾ, ਪ੍ਰੰਤੂ ਆਤਮ ਆਨੰਦ-ਮਗਨ ਹੈ । ਸਤਿਗੁਰੂ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ, ਜਿਸਨੇ ਨੌ ਦੁਆਰਿਆਂ ਦੇ ਓਛੇ ਰਸਾਂ ਤੋਂ ਮਨ ਨੂੰ ਵੇਮੁਖ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ । ਦਸਮਦੁਆਰ ਪਰਮਪੁਰਖ ਦੀ ਘਾਟੀ ਹੈ, ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਵਿਚਰ ਕੇ ਦੁਨੀਆਂ ਵਿੱਚ ਵਿਚਰਣ ਦੀ ਇੱਛਾ ਬਾਕੀ ਨਹੀਂ ਰਹੀ ਹੈ ।

– ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’

ਨਵੰਬਰ ੭, ੨੦੧੨

———–

शरीर चाहे निढाल-सा हो रहा है, शरीर का रोग चाहे जाने का नाम ही नहीं ले रहा, किन्तु आत्मा आनंद-मग्न है। सद्गुरु का धन्यवाद, जिसने नौ द्वारों के ओछे रसों से मन को विमुख कर दिया है। दशम द्वार परमपुरुष की घाटी है, जिसमें भ्रमण कर के दुनिया के भ्रमण की इच्छा बाकी नही रही है।

– अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’

नवम्बर ७, २०१२

———–

ਜਦੋਂ ਆਪਣੇ ਕੀਤੇ ਸਾਰੇ ਯਤਨ ਅਸਫਲ ਹੋ ਜਾਣ, ਜਦੋਂ ਆਪਣੀ ਸਮਰਥਾ ਦਾ ਹੰਕਾਰ ਟੁੱਟ ਜਾਏ, ਜਦੋਂ ਸੰਸਾਰੀ ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਤੋਂ ਉਮੀਦਾਂ ਖ਼ਤਮ ਹੋ ਜਾਣ, ਉਦੋਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੀ ਜੰਗ ਲੜ ਰਹੇ ਇਨਸਾਨ ਨੂੰ ਆਪਣੀ ਹਾਰ ਪਰਤੱਖ ਦਿੱਖਣ ਲੱਗਦੀ ਹੈ । ਇਸ ‘ਹਾਰ’ ਉਪਰੰਤ ਹੀ ਉਸ ਨੂੰ ਕੁੱਝ ਸਮਝ ਆਉਂਦੀ ਹੈ । ਇਸ ‘ਹਾਰ’ ਮਗਰੋਂ ਹੀ ਉਹ ਪ੍ਰਭੂ ਠਾਕੁਰ ਦੀ ਸ਼ਰਣ ਵਿੱਚ ਜਾਣ ਦਾ ਫ਼ੈਸਲਾ ਕਰਦਾ ਹੈ । ਪ੍ਰਭੂ ਦੀ ਸ਼ਰਣ ਵਿੱਚ ਜਾ ਕੇ ਉਹ ਪੂਰਣ ਸਮਰਪਣ ਕਰਦਾ ਹੈ ਤੇ ਆਖਦਾ ਹੈ, “ਹੇ ਪ੍ਰਭੂ, ਹੁਣ ਜਦੋਂ ਮੈਂ ਤੇਰੀ ਸ਼ਰਣ ਵਿੱਚ ਆ ਗਿਆ ਹਾਂ, ਤਾਂ ਸਭ ਕੁੱਝ ਤੇਰੇ ਹੁਕਮ ‘ਤੇ ਹੀ ਛੱਡ ਦਿੱਤਾ ਹੈ । ਤੇਰਾ ਹੁਕਮ ਹੈ, ਤਾਂ ਮੈਂਨੂੰ ਭਵਸਾਗਰ ਤੋਂ ਰੱਖ ਲੈ, ਤੇਰਾ ਹੁਕਮ ਹੈ, ਤਾਂ ਮੈਂਨੂੰ ਡੋਬ ਕੇ ਮਾਰ ਹੀ ਦੇ ।”

ਅਬ ਹਮ ਚਲੀ ਠਾਕੁਰ ਪਹਿ ਹਾਰਿ ॥ ਜਬ ਹਮ ਸਰਣਿ ਪ੍ਰਭੂ ਕੀ ਆਈ ਰਾਖੁ ਪ੍ਰਭੂ ਭਾਵੈ ਮਾਰਿ ॥੧॥
(੫੨੭, ਮਹਲਾ ੪, ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਸਾਹਿਬ ਜੀ) ।

– ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’

ਸਤੰਬਰ ੧੬, ੨੦੧੨.

———–

ਉਰਦੂ ਦੇ ਮੇਰੇ ਮਨਪਸੰਦ ਸ਼ੇਅਰਾਂ ਵਿੱਚੋਂ ਇੱਕ ਇਹ ਹੈ: –

ਸ਼ੋਅਲਾ ਥਾ, ਜਲ ਬੁਝਾ ਹੂੰ, ਹਵਾਏਂ ਮੁਝੇ ਨਾ ਦੋ ।
ਮੈਂ ਕਬ ਕਾ ਜਾ ਚੁਕਾ ਹੂੰ, ਸਦਾਏਂ ਮੁਝੇ ਨਾ ਦੋ । (ਅਹਿਮਦ ਫ਼ਰਾਜ਼)
(ਸਦਾਏਂ = ਆਵਾਜ਼ਾਂ)

ਬੁੱਝ ਚੁੱਕੇ ਸ਼ੋਅਲੇ ਨੂੰ ਹਵਾ ਦੇਣਾ ਵਿਅਰਥ ਹੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ । ਫੂਕਾਂ ਮਾਰ-ਮਾਰ ਕੇ ਉਸ ਵਿੱਚਲੀ ਬੁੱਝ ਚੁੱਕੀ ਅੱਗ ਨੂੰ ਭੜਕਾਇਆ ਜਾਣਾ ਸੰਭਵ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ ।

ਪਤਾ ਨਹੀਂ ਮੈਨੂੰ ਇਹ ਸ਼ੇਅਰ ਪਸੰਦ ਕਿਉਂ ਹੈ ?

ਕਿਤੇ ਅਜਿਹਾ ਤਾਂ ਨਹੀਂ ਕਿ ਮੇਰੇ ਅਚੇਤ ਮਨ ਵਿੱਚ ਧਰਮ ਦੇ ਪ੍ਰਚਾਰ ਤੇ ਪ੍ਰਸਾਰ ਲਈ ਉਤਸ਼ਾਹ ਹੁਣ ਠੰਢਾ ਪੈ ਚੁੱਕਾ ਹੈ?

– ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’

ਸਤੰਬਰ ੬, ੨੦੧੨.

———–

उर्दू के मेरे पसंदीदा शेयरों में से एक यह है: –

शो’ला था, जल बुझा हूँ, हवाएँ मुझे न दो ।
मैं कब का जा चुका हूँ, सदाएँ मुझे न दो । (अहमद फ़राज)
(सदाएँ = आवाज़ें)

बुझ चुके शो’ले को हवा देना व्यर्थ ही होता है। फूँक मार-मार कर उस के भीतर की बुझ
चुकी आग को भड़काया जाना सम्भव नही होता।

पता नही मुझे यह शेयर क्यों पसंद है?

कहीं ऐसा तो नही कि मेरे अचेत मन में धर्म के प्रचार और प्रसार के लिए जोश अब ठंडा पड़ चुका है?

– अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’

सितम्बर ६, २०१२

———–

ਸ੍ਰੀ ਦਸਮ ਗ੍ਰੰਥ ਜੀ ਤੋ ਬਨੇ ਹਹਿ ਬਹਾਨਾ ਮਾਤ੍ਰ,
ਅਸਲੀ ਨਿਸ਼ਾਨਾ ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਜੂ ਬਨਾਯੋ ਹੈ ।
ਨਿਆਰੋ ਰੂਪ ਖ਼ਾਲਸੇ ਕਾ ਦੇਖ ਕੇ ਜਲਨ ਹੋਤ,
ਰਹਿਤ ਮਰਯਾਦਾ ਕੋ ਨਿਰਾਰਥਕ ਜਨਾਯੋ ਹੈ ।
ਗੁਰੂ-ਦੋਖੀ, ਪੰਥ-ਦੋਖੀ ਹੂਏ ਹਹਿ ਏਕਤ੍ਰ ਅਬ,
‘ਗ੍ਰੰਥ-ਪੰਥ-ਖੰਡਨ’ ਕਾ ਹੀ ਮਤਾ ਪਕਾਯੋ ਹੈ ।
ਪੰਥ ਕੋ ਯਹ ਖੰਡ-ਖੰਡ ਕਰਨੇ ਕੀ ਸੋਚਤ ਹੈਂ,
ਹੋਵਹਿਗੇ ਯਹ ਖੰਡ-ਖੰਡ ਨਿਸ਼ਚਾ ਮੋਹਿ ਆਯੋ ਹੈ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

ਜੁਲਾਈ ੧੫, ੨੦੧੨.

———–

Guru Teg Bahadur Nagar, Kharar

ਕਿਸਮਤ ਮਾਰੇ, ਬੜੇ ਬੇਚਾਰੇ, ਮੇਰੇ ਮੁਹੱਲੇ ਦੇ ਸਭ ਵਾਸੀ ।
ਮੀਂਹ ਦਾ ਪਾਣੀ ਹਰ ਥਾਂ ਘੁੰਮਦਾ, ਕਿਸੇ ਪਾਸੇ ਵੀ ਨਹੀਂ ਨਿਕਾਸੀ ।
ਗਲੀ ਕੋਈ ਵੀ ਪੱਕੀ ਨਹੀਂਉ, ਚਿੱਕੜ ਦੇਖ ਕੇ ਛਾਏ ਉਦਾਸੀ ।
ਇੱਕ ਤਾਂ ਦੁੱਖੀ ਔਖੀ ਹਾਲਤ ਤੋਂ, ਉੱਤੋਂ ਸਹਿੰਦੇ ਜੱਗ ਦੀ ਹਾਸੀ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

ਸ਼੍ਰੋਮਣੀ ਅਕਾਲੀ ਦਲ ਜ਼ਿੰਦਾਬਾਦ

ਜੁਲਾਈ ੮, ੨੦੧੨.

———–

ਪਹਿਲੇ ਦਸਮਗ੍ਰੰਥ-ਬਾਨੀ ਗਾਵਤਾ ਥਾ ਖ਼ੂਬ-ਖ਼ੂਬ,
ਬਾਨੀ ਗਾਇ ਗਾਇ ਧਨ ਅਧਿਕ ਬਨਾਯੋ ਹੈ ।
ਪੰਥ ਨੈ ਭੀ ਮਾਨ ਸਨਮਾਨ ਘਨੋ ਦੀਨੋ ਤਾਹਿ,
ਜਥੇਦਾਰੀ ਦੈ ਕੈ ਪੰਚ ਆਪਨੋ ਬਨਾਯੋ ਹੈ ।
ਅਬ ਵਹੀ ਬਾਨੀ ਉਸੇ ਭਾਵਤੀ ਨਾ ਹਿਐ ਮਾਹਿ,
ਤਿਸੀ ਦਸਮ ਗ੍ਰੰਥ ਕੋ ਨਿਸ਼ਾਨੇ ਪੇ ਲੈ ਆਯੋ ਹੈ ।
ਇਸ ਬਾਰ ਖ਼ੁਦ ਕੋ ‘ਪ੍ਰੋਫ਼ੈਸਰ’ ਕਹਾਵਤ ਹੈ,
ਤੇਜਾ ਸਿੰਘ ਭਸੌੜ ਫਿਰ ਪੰਥ ਮਾਹਿ ਆਯੋ ਹੈ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

(ਜੁਲਾਈ ੨, ੨੦੧੨)

———–

ਸਿੱਖ ਕਹਿਲਾਏ ਕੇ ਭੀ ਗੁਰਬਾਣੀ ਨਿੰਦਤ ਜੋ,
ਐਸੇ ਪਾਖੰਡੀ ਕੋ ਮਲੇਛ ਪਹਿਚਾਨੀਏ ।
ਮਹਿਮਾ ਅਨੰਤ ਦਸ਼ਮੇਸ਼ ਜੂ ਕੇ ਗ੍ਰੰਥ ਕੀ ਹੈ,
ਬ੍ਰਜ ਅਉਰ ਫ਼ਾਰਸੀ ਕਾ ਸ਼ਾਹਕਾਰ ਜਾਨੀਏ ।
ਦਸਮ ਗੁਰੂ ਜੀ ਕੇ ਗ੍ਰੰਥ ਕੀ ਜੋ ਨਿੰਦਾ ਕਰੈ,
ਤਿਨ ਸਿਉ ਨਿਪਟਨੇ ਕੀ ਮਨ ਮਾਹਿ ਠਾਨੀਏ ।
ਦੇਹਧਾਰੀ ਗੁਰੂ ਅਬ ਖ਼ਾਲਸੇ ਕਾ ਕੋਊ ਨਾਹੀਂ,
ਗੁਰੂ ਜੀ ਕੀ ਬਾਣੀ ਕੋ ਹੀ ਸਤਿਗੁਰੂ ਮਾਨੀਏ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

(ਜੂਨ ੧, ੨੦੧੨)

———–

ਸ਼ਹਿਰ ਮੇਰੇ ‘ਤੇ ਬਿਜਲੀ ਚਮਕੇ, ਧੱਕ-ਧੱਕ ਹਿਰਦਾ ਧੜਕੇ।
ਮਰ ਚੁੱਕੇ ਸੱਜਣਾਂ ਦੀ ਯਾਦ ਅੱਜ ਅੱਖ ਮੇਰੀ ਵਿੱਚ ਰੜਕੇ।
ਬਾਹਰ ਵੀ ਵਰਖਾ ਹੁੰਦੀ ਤੇ ਅੱਖ ਵੀ ਮੀਂਹ ਵਰਸਾਏ,
ਬਾਹਰ ਬੱਦਲ ਰੋ ਰਿਹਾ, ਮੈਂ ਰੋਂਦਾ ਅੰਦਰ ਵੜਕੇ। (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

(੦੮ ਅਤੇ ੦੯ ਦਸੰਬਰ, ੨੦੧੧ ਦੀ ਦਰਮਿਆਨੀ ਇਸ ਰਾਤ ਵਿੱਚ ਖਰੜ੍ਹ ਸ਼ਹਿਰ ਵਿੱਚ ਇਸ ਵੇਲੇ ਮੀਂਹ ਪੈ ਰਿਹਾ ਹੈ।)

———–

ਭੈ ਕਾਹੂ ਕਉ ਦੇਤ ਨਹਿ ਨਹਿ ਭੈ ਮਾਨਤ ਆਨ॥
ਕਹੁ ਨਾਨਕ ਸੁਨਿ ਰੇ ਮਨਾ ਮੁਕਤਿ ਤਾਹਿ ਤੈ ਜਾਨਿ॥੧੬॥
(ਸਲੋਕ ਮਹਲਾ ੯, ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਸਾਹਿਬ ਜੀ)

ਅੱਜ ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਤੇਗ ਬਹਾਦੁਰ ਸਾਹਿਬ ਜੀ ਮਹਾਰਾਜ ਦਾ ਸ਼ਹੀਦੀ ਪੁਰਬ ਹੈ।

ਪਾਂਚ ਤਤ ਕੋ ਤਨੁ ਰਚਿਓ ਜਾਨਹੁ ਚਤੁਰ ਸੁਜਾਨ ॥
ਜਿਹ ਤੇ ਉਪਜਿਓ ਨਾਨਕਾ ਲੀਨ ਤਾਹਿ ਮੈ ਮਾਨੁ ॥੧੧॥
(ਸਲੋਕ ਮਹਲਾ ੯, ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਸਾਹਿਬ ਜੀ)

भै काहू कउ देत नहि नहि भै मानत आन ॥
कहु नानक सुनि रे मना गिआनी ताहि बखानि ॥१६॥
(सलोक महला ९, श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी)

आज श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी का बलिदान दिवस है.

पांच तत को तनु रचिओ जानहु चतुर सुजान ॥
जिह ते उपजिओ नानका लीन ताहि मै मानु ॥११॥
(सलोक महला ९, श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी)

bhai kaahoo ka-o dayt neh neh bhai maanat aan.
(One who does not frighten anyone, and who is not afraid of anyone else).
kaho naanak sun ray manaa gi-aanee taahi bakhaan. ||16||
(- says Nanak, listen, mind: call him spiritually wise. ||16||)
(Salok Mahala 9, Sri Guru Granth Sahib Ji)

Today is the martyrdom-day of Sri Guru Teg Bahadur Sahib.

paaNch tat ko tan rachi-o jaanhu chatur sujaan.
(Your body is made up of the five elements; you are clever and wise – know this well.)

jih tay upji-o naankaa leen taahi mai maan. ||11||
(Believe it – you shall merge once again into the One, O Nanak, from whom you originated. ||11||)
(Salok Mahala 9, Sri Guru Granth Sahib Ji)

November 24, 2011

———–

ਕਤਲ ਤਾਂ ਕਤਲ ਹੈ –
ਸਜ਼ਾਯੋਗ ਜੁਰਮ ।

ਵੱਖਰੀ ਏ ਗੱਲ –
ਕਿ ਹੋ ਜਾਂਦੇ ਕੁੱਝ ਕਾਤਲ
ਬਾਇੱਜ਼ਤ ਬਰੀ ।

ਕਾਨੂੰਨ ਵੀ ਕਾਨੂੰਨ ਹੈ,
ਇੱਕ ਵਿਅਕਤੀ ਦੇ ਕਤਲ ਦੇ ਜੁਰਮ ਵਿੱਚ –
ਦੋ-ਦੋ ਦੋਸ਼ੀ ਫਾਂਸੀ ਚਾੜ੍ਹੇ ਜਾਂਦੇ ।
ਹਜ਼ਾਰਾਂ ਲੋਕਾਂ ਦੇ ਕਾਤਲਾਂ ‘ਤੇ –
ਕਦੇ ਮੁਕੱਦਮਾ ਵੀ ਨਾ ਚੱਲਦਾ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

(ਨਵੰਬਰ, 1984 ਵਿੱਚ ਭਾਰਤ ਦੇ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਹੋਏ ਸਿੱਖਾਂ ਦੇ ਕਤਲੇਆਮ ਨੂੰ ਯਾਦ ਕਰਦਿਆਂ…) (ਨਵੰਬਰ 01, 2011)

———–

ਥੋੜਾ-ਕੁ ਚਿਰ ਮੇਰਾ ਸਾਥ ਨਿਭਾਏਗੀ ।
ਉਹ ਵੀ ਆਖਿਰ ਮੇਰੇ ਤੋਂ ਤੰਗ ਆਏਗੀ ।
ਮੁੱਦਤ ਤੱਕ ਉਸ ਮੈਨੂੰ ਲਾਡ ਲਡਾਏ, ਪਰ,
ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਆਖਿਰ ਮੈਨੂੰ ਪਿੱਠ ਵਿਖਾਏਗੀ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

(ਅਕਤੂਬਰ 18, 2011)

———–

ਮਤਲਬ ਦੀ ਦੁਨੀਆਂ ਵਿੱਚ ਚਾਰੇ ਪਾਸੇ ਘੋਰ ਹਨੇਰਾ ।
ਨਾ ਸਜਣਾਂ ਤੇਰਾ ਪੁੰਨ ਕੋਈ ਵੇਖੇ, ਕੋਈ ਵੇਖੇ ਪਾਪ ਨਾ ਮੇਰਾ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

(ਦੁਸ਼ਹਿਰਾ, ਅਕਤੂਬਰ 06, 2011)

———–

ਗੁਰਦੁਆਰਿਆਂ ‘ਤੇ ਕਬਜ਼ਾ ਕਰਨ ਦਾ ਐਵੇਂ ਪੰਗਾ ਪਾ ਬੈਠੇ ।
ਸ਼੍ਰੋਮਣੀ ਅਕਾਲੀ ਦਲ ਦੇ ਨਾਲ ਆਪਣੇ ਸਿੰਗ ਫਸਾ ਬੈਠੇ ।
ਚੰਗੇ-ਭਲੇ ਮੈਂਬਰ ਸ਼੍ਰੋਮਣੀ ਕਮੇਟੀ ਦੇ ਸੀ ਬਣੇ ਹੋਏ,
ਚੌੜ ‘ਚ ਆ ਕੇ ਝੀਂਡਾ ਸਾਹਿਬ ਆਪਣੀ ਸੀਟ ਗਵਾ ਬੈਠੇ । (‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’)

( ਸਤੰਬਰ 18, 2011 ਨੂੰ ਸ਼੍ਰੋਮਣੀ ਗੁਰਦੁਆਰਾ ਪ੍ਰਬੰਧਕ ਕਮੇਟੀ ਦੀਆਂ ਹੋਈਆਂ ਚੋਣਾਂ ਵਿੱਚ ਹਰਿਆਣਾ ਰਾਜ ਲਈ ਸ਼੍ਰੋਮਣੀ ਗੁਰਦੁਆਰਾ ਪ੍ਰਬੰਧਕ ਕਮੇਟੀ ਤੋਂ ਵੱਖਰੀ ਕਮੇਟੀ ਦੀ ਮੰਗ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਜਗਦੀਸ਼ ਸਿੰਘ ਝੀਂਡਾ ਦੀ ਕਰਾਰੀ ਹਾਰ ਮਗਰੋਂ ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’ ਵੱਲੋਂ ਸਤੰਬਰ 22, 2011 ਨੂੰ ਕੀਤੀ ਗਈ ਟਿੱਪਣੀ )

———————————–

More: Next Comments

‘अमृत’ का साक्षात्कार (हिन्दी रूपांतर)

(इरान में पैदा हुए जगजीवन जोत सिंघ आनंद (Meet Jagjivan Jot Singh Anand On FaceBook) फ़ारसी भाषा के विद्वान हैं. गुरु गोबिंद सिंघ जी के ‘ज़फ़रनामा’ का हिन्दी कविता में अनुवाद करने के लिए उन्हें जाना जाता है. जनवरी, २००८ में उन्होंने अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’ से साक्षात्कार किया. मुख्य मुद्दा ‘अखण्ड भारत’ रहा. उस साक्षात्कार का हिन्दी रूपान्तर हम यहाँ प्रस्तुत करते हैं.)

जगजीवन जोत सिंघ: कृपया अपने पारिवारिक पृष्ठ्भूमि के बारे में बताएं.

‘अमृत’: मूलतः, मैं ऋषियों के वंश से सम्बन्ध रखता हूँ. मेरे पूर्वज वैदिक संत और विद्वान थे. सही-सही समय का पता नहीं है कि वे कब वर्तमान पाकिस्तान के सरहदी सूबे में बस गए. वे वहाँ भूमिपति थे और उन में से कई कृषक बन गए.

हमारा गांव ‘मुहाड़ी’ सूबा सरहद की एबटाबाद तहसील में था (अब एबटाबाद ज़िला है).

जब गुरु गोबिन्द सिंघ साहिब ने सन १६९९ में खंडे की पाहुल चखाई, उन्होंने भाई साहिब भाई रोचा सिंघ जी को सूबा सरहद आदिक इलाकों में गुरुमत का प्रचार करने के लिए नियुक्त किया. मेरे पूर्वज गुरुवाणी की शिक्षाओं से अति प्रभावित हुए.

रणजीत सिंघ के राज्य के दौरान और उस के उपरान्त पंजाब में सदाचारक मूल्यों में गिरावट आ रही थी. उन दिनों, मेरे पूर्वज पण्डित रूप लाल जी ने अपने बेटे को अमृतधारी सिख बनने को कहा.

तब से ले कर अब तक, मेरे वंश में हरेक पुरुष अपने विवाह से पूर्व अमृतधारी बना. इस का अभिप्राय यह है कि मेरे प्रपितामा के प्रपितामा, मेरे प्रपितामा के पितामा, मेरे प्रपितामा के पिता, मेरे प्रपितामा, मेरे पितामा, मेरे पिता और मैं स्वं अमृतधारी माता-पिता के घर पैदा हुए.

१९४७ में भारत-पाकिस्तान बटवारे के पश्चात मेरे पिता (वह तब बच्चे ही थे), दादा जी और परदादा (प्रपितामह) भारत आ गए.

मेरे पिता भाई अवतार सिंघ जी (स्वर्गीय) सिख ग्रन्थों के विद्वान और धर्म-प्रचारक थे. भारत के अलग-अलग नगरों के गुरुद्वारों में उन्होंने ग्रंथी एवं कथावाचक के रूप में सेवा की. किसी समय वह शिरोमणि अकाली दल के सदस्य भी रहे. पंजाब प्रान्त आंदोलन में उन्होंने हिस्सा लिया और दो साल कारावास में रहे.

मेरा जन्म १९७२ में चंडीगढ़ में हुआ. मैं पंजाबी में पोस्ट-ग्रेजुएट हूँ.

जगजीवन जोत सिंघ: आप युवायों के लिए गुरुमत क्लास आयोजित करते हो. समान्यतः, इन क्लासों में आप क्या करते हो?

‘अमृत’: मैं अपनी वेबसाईट के लिए व्यस्त रहा हूँ, इस लिए काफी समय से मैं गुरुमत क्लास नहीं ले सका. अब मैं ऐसी क्लासें फिर से शुरू करने का विचार रखता हूँ.

गुरुमत की अपनी क्लासों में हम सिख रहत-मर्यादा एवं गुरु-इतिहास की व्याख्या करते हैं. पहले, हम गुरुमत संगीत और गतका भी सिखाते रहे हैं. मैं हमेशा इस तथ्य पर ज़ोर देता रहा हूँ कि श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी में अलग-अलग पंथों/जातिओं/भाषायों से सम्बंधित पवित्र आत्मायों की पवित्र वाणी शामिल है. इस तरह, श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी हमें वैश्विक भाईचारे की महान शिक्षा देते हैं. गुरुमत में अतिवाद के लिए कोई जगह नहीं है. सर्वशक्तिमान वाहेगुरु मुसलमान शेख फ़रीद जी और हिंदू भक्त रामानंद जी में कोई भेदवाद नहीं करता, और एक सच्चा सिख भी ऐसा भेदभाव नहीं करता.

जगजीवन जोत सिंघ: … और युवायों का इस प्रति क्या प्रतिकर्म होता है?

‘अमृत’: हर कोई गुरु ग्रन्थ साहिब जी के प्रेम, शान्ति, समरसता एवं वैश्विक भाईचारे के सन्देश को मानता है.

जगजीवन जोत सिंघ: हमें अपनी वेबसाइट अमृत्व्ल्ड डोट कोम के बारे में बताएं.

‘अमृत’: पाँच वर्ष पूर्व मैंने अमृत्व्ल्ड डोट कोम एक छोटी वेबसाइट के रूप में शुरू की थी और आहिस्ता-आहिस्ता इस की पहचान बनी. अमृत्व्ल्ड डोट कोम पर विश्व के हरेक कोने से आगन्तुक आते हैं.

गुरुमत के सन्देश का प्रचार करना अमृत्व्ल्ड डोट कोम का मुख्य उद्देश्य है. अमृत्व्ल्ड डोट कोम का मिशन ‘मिशन स्टेटमैंट’ में परिभाषित किया गया है, जो कि वेबसाइट पर उपलब्ध है.
हमारे धार्मिक एवं राजनैतिक विचार मेमोरंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग में दिए गए हैं, जो कि हमारी वेबसाइट पर उपलब्ध है.

जगजीवन जोत सिंघ: यह आश्चर्यजनक है कि आप जैसा एक सिख वेबसाइट अमृत्व्ल्ड डोट कोम पर अखण्ड भारत की बात कर रहा है.

‘अमृत’: ये शब्द भारतीय सिखों की रोज़ाना प्रार्थना का हिस्सा हैं, “हे अकाल पुरख, अपने पंथ दे सदा सहाई दातार जीओ ! श्री ननकाना साहिब ते होर गुरुद्वारेयाँ गुरधामाँ दे, जिन्हा तों पंथ नू विछोड़िया गया है, खुल्ले दर्शन दीदार ते सेवा संभाल दा दान खालसा जी नू बक्शो.”

भारतीय सिखों की यह प्रार्थना केवल तभी पूर्ण हो सकती है, जब अखण्ड भारत के रूप में पाकिस्तान, भारत और बांग्लादेश की कनफेडरेशन अस्तित्व में आ जाये. इसलिए, एक सिख की हैसियत से, यह स्वभाविक है कि मैं अखण्ड भारत का समर्थन करता हूँ.

१९४७ में भारत-पाकिस्तान के बटवारे से हरेक सम्प्रदाय प्रभावित हुआ, परन्तु सिख सब से अधिक प्रभावित हुए. पाकिस्तान बनने जा रहे इलाके में रहते सिखों का एक बड़ा हिस्सा भारत आ गया. सिखों का एक छोटा-सा हिस्सा पाकिस्तान में ही रहा. कुछ एक ने इस्लाम कबूल कर लिया. और, हम सिखों के उस हिस्से को तो भूल ही जाते हैं, जो तब अफ़गानिस्तान में जा बसा. सिख अपने पंथ के जन्म-अस्थान श्री ननकाना साहिब से बिछुड़ गए. बहुत सारे हिन्दुओं की तरह, जिनको १९४७ में पाकिस्तान छोड़ने पर मजबूर किया गया, सहस्रों सिख भी खाली हाथ भारत पहुंचे. उनमें से बहुत पाकिस्तान में भूमिपति थे. उनके पास कोई और विकल्प नहीं था, सिवा इस के कि वे शरणार्थी शिविरों में रहते. मेरे प्रपितामह, पितामह और पिता जी को अपने प्रिय गाँव को छोड़ कर अपने परिवार के साथ भारत आना पड़ा.

एक सिख की हैसियत से, और सूबा सरहद (अब खैबर पख्तूनख्वा) के पुत्र की हैसियत से, मैं पक्का विश्वास रखता हूँ कि मेरा ‘सूबा’ ही मेरे देश भारत की असली ‘सरहद’ है.

जगजीवन जोत सिंघ: अखण्ड भारत का आपका कॉन्सेप्ट क्या है?

‘अमृत’: यह एक बिल्कुल सादा कॉन्सेप्ट है. वर्तमान पाकिस्तान, भारत और बांग्लदेश को फिर से एकीकृत हो जाना चाहिए. और यह सम्भव भी है.

यदि ये तीन देश एकदम से एक देश के रूप में एकीकृत नहीं हो सकते, तो कम से कम उन को तीन स्वतन्त्र देशों की कन्फेडरेशन अवश्य बना लेनी चाहिए.

भारत-पाकिस्तान-बांग्लादेश कन्फेडरेशन को आरम्भ में तीन स्वतंत्र देशों की कन्फेडरेशन के रूप में कार्य करना चाहिए. इन सभी तीन देशों के संयुक्तराष्ट्र में अलग-अलग प्रतिनिध हों.

अन्दरूनी तौर पर, इन तीनों देशों की अलग-अलग संसदें हों. वर्ष में एक या दो बार (या जैसी आवश्यक्ता हो) इन तीनों देशों की संसदों की सांझा बैठक हो सकती है.

सशस्त्र सेनायों को अपने अपने देश में कार्य करना चाहिए, पर तीनों देशों के सेना प्रमुखों की एक समिति का गठन हो.

तीनों देशों की सरहदें हो सकती हैं, परन्तु लोग आसानी से उपलब्ध आज्ञा पत्र ले कर सरहद पार कर सकें. पासपोर्ट और विज़ा की कोई आवश्यक्ता न हो.

एक बार जब यह लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाये, तो आगे के कदम उठाये जा सकते हैं. बाद में, और पड़ोसी देशों, जैसे श्री लंका और बर्मा (यहाँ तक कि इण्डोनेशिया, नेपाल, मलेशिया और थाईलैंड) आदि को भी इस कन्फेडरेशन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जा सकता है.

अन्त में, इस कन्फेडरेशन के सभी देश एक एकल देश के रूप में उभर सकते हैं, जो बिना शक एक शान्तिप्रिय विश्वशक्ति होगा.

यह सब कुछ कदम दर कदम करने के कारण है. इस की व्याख्या करने के लिए एक अलग लेख की आवश्यकता है.

बहुत से मुद्दे ऐसे हैं, जिन के और स्पष्टीकरण और व्याख्याएं चाहियें, जो कि मैं भविष्य में अपनी वेबसाइट पर करूँगा.

जगजीवन जोत सिंघ: अखण्ड भारत की आवश्यक्ता क्यों है?

‘अमृत’: हम मानें या न, परन्तु यह सच्चाई है कि विश्व शक्तियाँ, जैसे अमेरिका, हमारे (भारत और पाकिस्तान) आंतरिक मामलों में दखल देती हैं. अभी हाल में ही, अमेरिका के कुछ नेताओं द्वारा यह कहा गया था कि वे पाकिस्तान के भीतर तक भी आक्रमण करेंगे, चाहे पाकिस्तान ऐसा करने की आज्ञा न भी दे. इसी तरह, श्री लंका और भारत के बीच के समुद्र (राम सेतु का क्षेत्र) पर अमेरिका का विचार भी एक तरह से हमारे मामलों में उस का दखल ही है. एक सशक्त अखण्ड भारत इस सब को रोक सकता है.

(नोट: इस साक्षात्कार के बहुत बाद, पाकिस्तान के भीतर अमेरिका द्वारा ड्रोन हमलों, पाकिस्तान की आज्ञा के बिना ही पाकिस्तान के भीतर एबटाबाद नगर में उसामा बिन लादेन को मर कर उसका मृतक शरीर तक उठा कर ले जाना और नाटो सेनाओं द्वारा पाकिस्तान के २८ सेना कर्मियों को मार डालने की घटनाओं ने बहुत पहले से की गयी अमृत पाल सिंघ ‘अमृत’ की इन टिप्पणियों को सत्य सिद्ध कर दिया है).

पाकिस्तान का हर प्रान्त एक अलग जातीय समुदाय से जुड़ा है. पाकिस्तान के बहु-भाषीय और बहु-सामुदायक स्वभाव की तरफ इसके शासकों ने कभी ध्यान नहीं दिया. सामुदायक अंतर्विरोध १९७१ में अपने शीर्ष पर पहुंचा, जब बंगालियों ने विद्रोह किया और बांग्लादेश की स्थापना के साथ पाकिस्तान दो भागों में बंट गया. शिया और सुन्नी समुदायों के बीच हिंसा पाकिस्तान में आम है. एक ब्रिटिश पत्रिका ‘द इक्नोमिक्स’ ने पाकिस्तान को ‘विश्व का सबसे ख़तरनाक स्थान’ कहा है. इस वक्तव्य में कुछ सच्चाई हो सकती है. विभिन्न समुदायों में विवाद किसी भी देश को सबसे ख़तरनाक स्थान में बदल सकता है. पाकिस्तान के वर्तमान राजनैतिक हालात से ऐसा लगता है कि हमारे नेतायों ने अभी सबक नहीं सीखा है. अखण्ड भारत पाकिस्तान और भारत के अलगाववादी आन्दोलनों का शान्तिपूर्ण समाधान हो सकता है. भारत और पाकिस्तान का संघ अपने आप में ही जम्मू और काश्मीर के मुद्दे का स्थाई हल हो सकता है.

पाकिस्तान धार्मिक आधार पर बनाया गया था. १९४७ में जब भारत को दो देशों में बाँटा गया था, तब न केवल धरती, बल्कि ब्रिटिश भारतीय सेना, इंडियन सिविल सर्विसिस और अन्य प्रशासनिक सेवाएं, रेलवेज़, केन्द्रीय कोष और अन्य सामान भी भारत और पाकिस्तान में बाँटा गया था. परन्तु, वे गुरु नानक देव जी, शेख फरीद जी शक्कर गंज, साईं मियाँ मीर जी, बाबा बुल्ले शाह आदिक को आपस में बाँटना भूल गए थे.

गुरु नानक देव चाहे हिन्दुयों/सिखों के गुरु हैं, वह बहुत से मुसलामानों के लिए पीर भी हैं.

नानक शाह फ़कीर.
हिंदू का गुरु, मुसलमान का पीर.

यहाँ तक, कि पाकिस्तान का राष्ट्रीय कवि, इक्बाल भी गुरु नानक को इन शब्दों में श्रधांजलि देता है: –

फिर उठी आखिर सदा तौदीद की पंजाब से.
हिन्द को इक मर्द-ए-कामिल ने जगाया खाब से.

गुरु नानक का ननकाना साहिब वर्तमान पाकिस्तान में स्थित है. भारतीय सिख गुरु नानक साहिब के ननकाना साहिब के लिए लालायत रहते हैं. पाकिस्तान के मुसलमान अजमेर शरीफ और रोज़ा शरीफ के लिए लालायत रहते हैं.

राय बुलार और नवाब दौलत खान से लेकर गनी खान और नबी खान तक, मुसलमानों की एक लम्बी सूची है, जिन्होंने सिखों के गुरुयों की श्रद्धा से सेवा की.

न केवल पाकितान के आम मुसलमान, बल्कि पाकिस्तान के कई उच्च नेता भी गुरुयों प्रति आदर प्रकट करने के लिए श्री अमृतसर साहिब के श्री हरिमन्दिर साहिब की यात्रा करते हैं. मुझे याद है कि मौलाना फज़ुलू उर रहमान, जो कि सूबा सरहद (अब खैबर प्ख्तुन्ख्वा) से तालिबान के हिमायती इस्लामिक विद्वान और जमायत-इ-उलेमा-इस्लाम के प्रमुख हैं, ने भी श्री दरबार साहिब, अमृतसर साहिब के दर्शन किये थे. यहाँ तक कि पाकिस्तान के एक राष्ट्रपति ने गुरुयों के प्रति श्रद्धा प्रकट करते हुए श्री दरबार साहिब, अमृतसर साहिब के लिए गलीचा (कारपेट) भी भेजा था.

बाबा फ़रीद के वंशज सईद अफज़ल हैदर, जो तब पाकिस्तान के क़ानून मंत्री थे, ने गुरु ग्रन्थ साहिब में शामिल सुखमनी साहिब फ़ारसी, रोमन, शाहमुखी और गुरमुखी समेत पाँच लिपियों में लिपियंत्र किया था. शौकत अली और मरहूम नुसरत फ़तेह अली खान जैसे सुप्रसिद्ध पाकिस्तानी गायकों ने गुरुवाणी का गायन किया है.

१९९९ में श्री आनंदपुर साहिब, पंजाब (भारत) में खालसा पंथ की त्रिशताब्दी जश्नों में कई पाकिस्तानी मुसलमानों ने हिस्सा लिया था.

पाकिस्तान की यात्रा के दौरान मेरे पिता जी, भाई अवतार सिंघ जी (स्वर्गीय) ने एक पाकिस्तानी मुसलमान से पूछा, “आप सिखों को साईं मियां मीर जी की दरगाह की खुले रूप से ज़िआरत करने की आज्ञा क्यों नहीं देते?”

वह पाकिस्तानी मुसलमान मुस्कुराया और बोला, “आप लोग उस दरगाह को भी सिख स्थल बताना आरम्भ कर दोगे, क्योंकि साईं मियाँ मीर जी गुरु अर्जुन देव जी के घनिष्ठ मित्र थे.”

एक आम सिख यह महसूस ही नहीं करता कि साईं मियां मीर जी और शेख फरीद जी किसी ‘और’ सम्प्रदाय से सम्बन्धित थे. भारतीय पंजाब के फरीदकोट में बाबा शेख फ़रीद आगमन पर्व एक ‘सिख’ पर्व है. इस पर्व के दौरान सिख ‘नगर कीर्तन’ (शोभा यात्रा) तक निकालते हैं. तिल्ला बाबा फ़रीद और गोदड़ी साहिब गुरद्वारे हैं, मस्जिदें नहीं. दूसरी और, पाकपटन (पाकिस्तान) में शेख फरीद साहिब का अस्थान एक मुस्लिम दरगाह है.

गुरु नानक देव जी के शिष्य भाई मर्दाना जी के वंशजों ने १९४७ में पाकिस्तान जाने का फ़ैसला किया, क्योंकि वे खुद को मुस्लमान मानते थे. वे अब भी भारत आते हैं और गुरद्वारों में अपने प्रिय गुरुजनों की वाणी गाते हैं.

अखण्ड भारत के रूप में एक संघ भारतीय सिखों की आवश्यकता है, ताकि वे श्री ननकाना साहिब आदिक गुरद्वारों की बेरोक-टोक यात्रा और गुरद्वारों का प्रबंधन कर सकें.

ये शब्द भारतीय सिखों की रोज़ाना प्रार्थना का हिस्सा हैं, “हे अकाल पुरख ! आपणे पंथ दे सदा सहाई दातार जीयो ! श्री नानकाणा साहिब ते होर गुर्द्वारेयाँ, गुरधामाँ दे, जिन्हा तों पंथ नूँ विछोड़ेया गया है, खुल्ले दर्शन दीदार ते सेवा संभाल दा दान खालसा जी नूँ बक्शो”.

ऐतिहासिक गुरद्वारे बांग्लादेश में भी हैं.

ऐसा संघ पाकिस्तानी और बांग्लादेशी सिखों के लिए भी आवश्यक है, ताकि वे भारत में स्थित गुरद्वारों के बेरोक-टोक दर्शन कर सकें.

इस क्षेत्र के हिन्दुयों और मुसलमानों को भी यही लाभ होगा, क्योंकि वे भी संघ में स्थित अपने धार्मिक स्थलों की यात्रा कर पायेंगे. प्रसिद्ध हिन्दू तीर्थ कटासराज समेत कई और हिन्दू अस्थान अब पाकिस्तान में हैं. अजमेर शरीफ, रोज़ा शरीफ और हजरत निज्जामुद्दीन की दरगाहें आदि मुसलमानों के धार्मिक स्थल भारत में हैं.

बहुत-से मुसलमान १९४७ में भारत में सिख बन गए. वे वाहेगुरु में विश्वास करते हुए बड़े हुए, जबकि उनके और परिवार वाले सरहद की दूसरी ओर अल्लाह में यकीन रखते हैं. वे पाकिस्तान में रहते अपने रिश्तेदारों से मिलना चाहेंगे. इसी तरह, बहुत से सिख और हिन्दू पाकिस्तान में मुस्लमान बन गए. वे भारत में रहने वाले अपने सम्बन्धियों से मिलना चाहेंगे. हज़ारों ऐसे मुसलमान, सिख और हिन्दू थे, जिन्होंने अपना सम्प्रदाय तो नहीं बदला, परन्तु १९४७ में सरहद पार नहीं कर पाए. वे भी सरहद की दूसरी तरफ रहने वाले अपने सम्बन्धियों से मिलने को लालायत रहते हैं. ऐसे लोगों की भावनाएं और आंसू चाहते हैं के अखण्ड भारत बने.

अखण्ड भारत का संघ क्षेत्र की आर्थिक प्रगति के लिए भी अच्छा रहेगा. भारत-पाकिस्तान-बांग्लदेश के संघ से और भी कई लाभ प्राप्त होंगे.

जगजीवन जोत सिंघ: अखण्ड भारत के इस विचार का लोग कैसे जवाब देते हैं?

‘अमृत’: अखण्ड भारत के विचार को मैंने भारत में रहने वाले कुछ लोगों के साथ सांझा किया है. मैंने पश्चमी देशों में रहने वाले भारतीय मूल के कुछ लोगों से भी बात की है. हर कोई इस विचार की प्रशंसा करता है. मैं अपनी वेबसाइट पर अखण्ड भारत के मुद्दे पर एक पूरा सेक्शन लाने का इरादा रखता हूँ.

जगजीवन जोत सिंघ: अखण्ड भारत के इस विचार को भारत में किस तरह से लिया जाता है?

‘अमृत’: विकीपीडिया इस प्रकार ज़िक्र करती है:

Akhanda Bharat (Hindi: अखण्ड भारत, literally Undivided India) is a term that refers to regions that had a Hindu majority in the past, before the Muslim conquest in the Indian subcontinent and post-colonial partition. Popular conceptions of Akhand Bharat differ. Some regard Undivided India as Akhand Bharat, while some opine that Afghanistan, Sout-East Asia and even Iran, which come within the Indian sphere of influence form a part of Akhand Bharat. It includes all of the current Republic of India as well as the nation-states of Afghanistan, Bangladesh, Pakistan (particularly the Punjab and Sindh region), Sri Lanka and Myanmar. Apart from Afghanistan, this is basically the same as the formerly-existing Indian Empire which lasted until the end of the colonial era in India in 1947. Akhanda Bharatam is the Sanskrit name for this region.

The geographic frontiers of this region is held to range from the Himalayan region in the north to the ocean in the south, the borders of Bharatavarsha as outlined in the Vishnu Purana.

These regions tended to be predominantly influenced by Dharmic religion and culture prior to the introduction of Christianity and Islam, of which the concept of partition was created. Thus, religious and ethnic nationalism often has an influence on the concept of Akhanda Bharata. The concept is sometimes subscribed to by nationalist Indians as well as Hindu nationalists and organizations such as Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) and political parties such as the Bharatiya Janata Party (BJP).

व्यवहारिक रूप से, ऐसा लगता है कि कोई भी राजनैतिक दल अखण्ड भारत के मुद्दे पर गम्भीर नहीं है. समाचार पत्रों के अनुसार २००५ में अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान भारतीय जनता पार्टी के उस समय के प्रधान लाल कृष्ण अडवाणी ने संघ परिवार के अखण्ड भारत के संकल्प से अपने दल को अलग कर लिया था, यह कहते हुए कि ‘दोनों देशों का अलग प्रभुसत्तासंपन्न राष्ट्रों के रूप में उदय इतिहास की न बदली जा सकने वाली हकीकत है’. उन्होंने आगे कहा, “मैं यह केवल इस लिए कह रहा हूँ, क्योंकि मैंने देखा कि अभी भी बीजेपी की पाकिस्तान के प्रति सोच को लेकर कुछ गलत धारणाएं और झूठा प्रचार है.

लाल कृष्ण अडवाणी के वक्तव्य के जवाब में विश्व हिन्दू परिषद ने प्रस्ताव पारित किया, जो कुछ ऐसे है:

“ऋषि अरबिन्दो से लेकर नई पीड़ी तक, हर कोई अखण्ड भारत के लिए दृढ़ संकल्प है. पाकिस्तान को इतिहास की न बदली जा सकने वाली सचाई बता कर अडवाणी ने अरबिन्दो सहित करोड़ों देशभक्तों का अपमान किया है…”

अखण्ड भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कोई सन्जीदा यत्न नहीं किये गए. हमें यह समझ लेना चाहिए कि अगर हर एक भारतीय अखण्ड भारत बनाने के मुद्दे से सहमत भी हो जाए, तो भी ऐसा तब तक सम्भव नहीं है, जब तक अधिकतर पाकिस्तानी और बांग्लादेशी नागरिक इसका समर्थन न करें. अत: हमें इस संकल्प को पाकिस्तान और बांग्लादेश में सर्वप्रिय बनाना चाहिए.

जगजीवन जोत सिंघ: क्या आप सोचते हैं कि आपके अखण्ड भारत के संकल्प को यदि गुरु नानक देव जी के दर्शनशास्त्र से भरा जाए, जो कि सांझीवालता पर आधारित है, तो सफलता प्राप्त होगी?

‘अमृत’: गुरु नानक देव केवल सिखों से ही सम्बन्धित नहीं हैं. वह मुसलमानों, सिखों और हिन्दुयों के सांझा सन्त हैं. और, यह संदेश मुसलमानों, सिखों और हिन्दुयों के लिए सांझा है.

गुरु नानक देव जी ने कहा था, “काइआ कपड़ु टुकु टुकु होसी हिदुसतानु समालसी बोला ॥ (श्री गुरु ग्रन्थ साहिब, ७२३) अर्थात, “जब तन का कपड़ा तार-तार होगा, तब भारत इन शब्दों को याद करेगा”.

मुझे विश्वास है कि जब-जब हिन्दोस्तान के लोगों की काया का कपड़ा तार-तार होगा, हिन्दोस्तान गुरु नानक देव जी के शब्दों का स्मरण करेगा. १९४७ में तो स्वं हिन्दोस्तान ही विभिन्न देशों के रूप में तार-तार हो गया था. क्या हिन्दोस्तान को गुरु नानक के बोल याद नहीं करने चाहिए? सच्चाई भरे गुरु नानक के शब्द आज भी सच्चे हैं, “सच की बाणी नानकु आखै सचु सुणाइसी सच की बेला ॥” (श्री गुरु ग्रन्थ साहिब, ७२३). अर्थात, “नानक सच की वाणी कहता है, वह अभी, सही समय पर, सच का ऐलान करता है”.

गुरु नानक देव जी के शब्द अभी भी प्रसांगिक हैं. यदि हम मुसलामानों के पीर ‘नानक शाह’ और हिन्दुयों के गुरु ‘गुरु नानक देव’ के वैश्विक भाईचारे, शान्ति और प्रेम के संदेश का अनुसरण करें, तो मुझे विश्वास है कि अखण्ड भारत का संकल्प बड़ा फलदायक है.

जर्मनी १९४९ में दे देशों के रूप में बंट गया था. जर्मनों ने अपनी भूल को समझा और १९९० में दोनों देश फिर से एकीकृत हुए और एक देश के रूप में उभरे. पाकिस्तान, भारत और बांग्लादेश ऐसा क्यों नहीं कर सकते?

जगजीवन जोत सिंघ: इन दिनों पंथ किस प्रकार की चुनौतियों का सामना कर रहा है? …उनका हल?

‘अमृत’: बहुत सी चुनौतियां हैं, पर सबसे बड़ी चुनौती उनके द्वारा दी गई है, जो सिखों के मन में गुरुवाणी प्रति संदेह पैदा करने का यत्न कर रहे हैं.

खोज भरे लेख और पुस्तकों की आवश्यकता है, जो ऐसे लोगों द्वारा किये जा रहे दावों को गलत साबित करें. सिख प्रचारकों को शानदार प्रशिक्षण उपलब्ध करवाया जाना चाहिए. खोज से भरी पुस्तकों का प्रयोग केवल प्रचारक ही करते हैं. वे इन खोज कार्यों का प्रयोग करके आगे जन साधारण को समझाएं.

अच्छे पढ़े-लिखे और समर्पित प्रचारकों की कमी है. एक अच्छा प्रचारक एक या दो साल में नहीं बनता. एक विद्वान को अच्छा प्रचारक बनने में लम्बा समय लगता है. अत: हमें लम्बे समय की सही नीति की आवश्यकता है.

Tract On Sukhnidhan / Cannabis Distributed

As it was announced by the AmritWorld.com, a tract in Punjabi language (“ਤਖ਼ਤ ਸਚਖੰਡ ਸ੍ਰੀ ਹਜ਼ੂਰ ਸਾਹਿਬ ਵਿਖੇ ਸੁੱਖਨਿਧਾਨ {ਭੰਗ} ਦਾ ਭੋਗ”) has been distributed among readers, mainly in Chhachhrauli (Haryana) and a few other villages. The online version of this Punjabi article is available on our website.

Though, a proper feed back has to come yet, it seems the distribution of the tract would generate good results for our mission to spread the message of Guruism (Gurmat). Seeing that we have more copies of the tract in our hands, we may postpone publishing of our next tract for one month.

We would like someone from Chhachhrauli (Near Jagadhari, in Haryana) to be in our team, a few persons are in our contact though. We have no contact from Bilaspur (Near Kapalmochan, Haryana) yet. We would love to have someone from Bilaspur in our team.

We have not forgotten the beloved Gursikhs of Raipur Rani (Haryana). We will be there in near future with our tract.

ਸੁੱਖਨਿਧਾਨ/ਭੰਗ ਬਾਰੇ ਟ੍ਰੈਕਟ ਵੰਡਿਆ

ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਅੰਮ੍ਰਿਤਵਲਡ ਡੋਟ ਕੋਮ ਨੇ ਐਲਾਨ ਕੀਤਾ ਸੀ, ਪੰਜਾਬੀ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਟ੍ਰੈਕਟ (“ਤਖ਼ਤ ਸਚਖੰਡ ਸ੍ਰੀ ਹਜ਼ੂਰ ਸਾਹਿਬ ਵਿਖੇ ਸੁੱਖਨਿਧਾਨ {ਭੰਗ} ਦਾ ਭੋਗ”) ਪਾਠਕਾਂ ਵਿੱਚ, ਖ਼ਾਸ ਕਰਕੇ ਛਛਰੌਲੀ (ਹਰਿਆਣਾ) ਅਤੇ ਕੁਝ ਹੋਰ ਪਿੰਡਾਂ ਵਿੱਚ ਵੰਡਿਆ ਗਿਆ ਹੈ। ਇਸ ਪੰਜਾਬੀ ਲੇਖ ਦਾ ਇੰਟਰਨੈੱਟ ਰੂਪ ਸਾਡੀ ਵੈੱਬਸਾਈਟ ‘ਤੇ ਮੌਜੂਦ ਹੈ।

ਚਾਹੇ ਅਜੇ ਪੂਰੀ ਫ਼ੀਡਬੈਕ ਆਉਣੀ ਬਾਕੀ ਹੈ, ਇੰਝ ਜਾਪਦਾ ਹੈ ਕਿ ਟ੍ਰੈਕਟ ਵੰਡਣ ਨਾਲ ਗੁਰਮਤਿ ਦੇ ਸੰਦੇਸ਼ ਨੂੰ ਫੈਲਾਉਣ ਦੇ ਸਾਡੇ ਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ ਚੰਗੇ ਨਤੀਜੇ ਮਿਲਣਗੇ। ਇਹ ਦੇਖ ਕੇ ਕਿ ਸਾਡੇ ਕੋਲ ਅਜੇ ਇਸ ਟ੍ਰੈਕਟ ਦੀਆਂ ਕੁੱਝ ਕਾਪੀਆਂ ਬਾਕੀ ਬਚੀਆਂ ਹੋਈਆਂ ਹਨ, ਅਸੀਂ ਅਗਲੇ ਟ੍ਰੈਕਟ ਦੀ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਨਾ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਮਹੀਨੇ ਦੀ ਦੇਰੀ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਾਂ।

ਅਸੀਂ ਚਾਹਾਂਗੇ ਕਿ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਛਛਰੌਲੀ (ਜਗਾਧਰੀ ਦੇ ਕੋਲ, ਹਰਿਆਣਾ) ਤੋਂ ਸਾਡੀ ਟੀਮ ਵਿੱਚ ਹੋਵੇ, ਹਾਲਾਂਕਿ ਕੁੱਝ ਵਿਅਕਤੀ ਸਾਡੇ ਸੰਪਰਕ ਵਿੱਚ ਹਨ ਵੀ। ਸਾਡੇ ਸੰਪਰਕ ਵਿੱਚ ਬਿਲਾਸਪੁਰ (ਕਪਾਲਮੋਚਨ ਦੇ ਕੋਲ, ਹਰਿਆਣਾ) ਤੋਂ ਕੋਈ ਨਹੀਂ ਹੈ। ਅਸੀਂ ਚਾਹਾਂਗੇ ਕਿ ਬਿਲਾਸਪੁਰ ਤੋਂ ਵੀ ਕੋਈ ਸਾਡੀ ਟੀਮ ਵਿੱਚ ਹੋਵੇ।

ਅਸੀਂ ਰਾਇਪੁਰ ਰਾਣੀ (ਹਰਿਆਣਾ) ਦੇ ਗੁਰਸਿੱਖਾਂ ਨੂੰ ਨਹੀਂ ਭੁੱਲੇ ਹਾਂ। ਨੇੜ-ਭਵਿੱਖ ਵਿੱਚ ਅਸੀਂ ਆਪਣੇ ਟ੍ਰੈਕਟ ਨਾਲ ਉੱਥੇ ਵੀ ਪੁੱਜਾਂਗੇ।

सुखनिधान/भंग पर ट्रैक्ट बाँटा

जैसा कि अमृतवल्ड डॉट कॉम ने ऐलान किया था, पंजाबी भाषा में एक ट्रैक्ट (“तख्त सचखण्ड श्री हजूर साहिब विखे सुखनिधान/भंग दा भोग”) पाठकों में, खास कर के छछरौली एवं कुछ और गाँवों में बाँटा गया है. इस पंजाबी लेख का इन्टरनेट रूप हमारी वेबसाइट पर उपलब्ध है.

चाहे अभी पूरी फीडबैक आना बाक़ी है, ऐसा लगता है कि ट्रैक्ट बाँटने से गुरमति के सन्देश को फैलाने के हमारे मिशन को अच्छे परिणाम मिलेंगे. यह देखकर कि हमारे पास अभी इस ट्रैक्ट की कुछ प्रतियाँ बाक़ी बची हुयी हैं, हम अगले ट्रैक्ट के प्रकाशन में एक महीने का विलम्ब कर सकते हैं.

हम चाहेंगे कि कोई व्यक्ति छछरौली (जगाधरी के पास, हरियाणा) से हमारी टीम में हो, हालाँकि कुछ लोग हमारे सम्पर्क में हैं भी. हमारे सम्पर्क में बिलासपुर (कपालमोचन के पास, हरियाणा) से कोई नहीं है. हम चाहेंगे कि बिलासपुर से भी कोई हमारी टीम में हो.

हम रायपुर रानी (हरियाणा) के गुरसिखों को नहीं भूले हैं. निकट भविष्य में हम अपने ट्रैक्ट के साथ वहाँ भी पहुंचेंगे.

AmritWorld To Publish Tract On Cannabis

Though the AmritWorld.com has published several articles online, it is felt that a few articles should be published on paper and distributed among those who do not use internet.

It has been reported to Amrit Pal Singh ‘Amrit’ that cannabis (‘Bhang’) (ਭੰਗ) is distributed on select occasions in different Gurdwaras around Chhachhrauli in Yamunanagar District of Haryana State (India). Taking this into consideration, the first tract on ‘Bhang’ in Punjabi language will be distributed in that area.

There is a Punjab article on cannabis (ਭੰਗ) already published on website
www.AmritWorld.com
. The same article will be published on paper and distributed.

ਭੰਗ ਦੇ ਵਿਸ਼ੇ ‘ਤੇ ਟ੍ਰੈਕਟ ਵੰਡੇਗੀ ਅੰਮ੍ਰਿਤਵਲਡ ਡੋਟ ਕੋਮ

ਭਾਵੇਂ ਅੰਮ੍ਰਿਤਵਲਡ ਡੋਟ ਕੋਮ ਨੇ ਇਂਟਰਨੇੱਟ ‘ਤੇ ਕਈ ਲੇਖ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਕੀਤੇ ਹਨ, ਇਹ ਮਹਿਸੂਸ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ ਕਿ ਕੁੱਝ ਲੇਖ ਕਾਗ਼ਜ਼ ‘ਤੇ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਕਰਨੇ ਚਾਹੀਦੇ ਹਨ ਤੇ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦਰਮਿਆਨ ਵੰਡੇ ਜਾਣੇ ਚਾਹੀਦੇ ਹਨ, ਜੋ ਇੰਟਰਨੇੱਟ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ ।

ਅੰਮ੍ਰਿਤ ਪਾਲ ਸਿੰਘ ‘ਅੰਮ੍ਰਿਤ’ ਨੂੰ ਇਹ ਸੂਚਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ ਕਿ ਖ਼ਾਸ ਮੌਕਿਆਂ ‘ਤੇ ਯਮੁਨਾਨਗਰ ਜ਼ਿਲ੍ਹੇ ਦੇ ਛਛਰੌਲੀ ਦੇ ਆਸ-ਪਾਸ ਕੁੱਝ ਗੁਰਦੁਆਰਿਆਂ ਵਿੱਚ ਭੰਗ ਵਰਤਾਈ ਜਾਂਦੀ ਹੈ । ਇਸ ਗੱਲ ਨੂੰ ਧਿਆਨ ਵਿੱਚ ਰੱਖਦਿਆਂ, ਪਹਿਲਾ ਟ੍ਰੈਕਟ ਭੰਗ ਦੇ ਵਿਸ਼ੇ ‘ਤੇ ਪੰਜਾਬੀ ਬੋਲੀ ਵਿੱਚ ਛਾਪ ਕੇ ਉਸ ਇਲਾਕੇ ਵਿੱਚ ਵੰਡਿਆ ਜਾਏਗਾ । ਵੈੱਬਸਾਈਟ ਅੰਮ੍ਰਿਤਵਲਡ ਡੋਟ ਕੋਮ ‘ਤੇ ਪਹਿਲਾਂ ਹੀ ਇੱਕ ਲੇਖ ਭੰਗ ਦੇ ਵਿੱਸ਼ੇ ‘ਤੇ ਛੱਪਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ । ਇਸੇ ਲੇਖ ਨੂੰ ਕਾਗ਼ਜ਼ ਉੱਤੇ ਛਾਪ ਕੇ ਵੰਡਿਆ ਜਾਏਗਾ ।

Elisabeth Meru’s Open Letter To the SGPC

Elisabeth Meru’s Open Letter To the SGPC

Open Letter to Dalmegh Singh, Shiromani Gurdwara Prabandhak Committee, Amritsar

SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ in German translation as vicarious agent ???

Dalmegh Singh!

It’s enough! Seeing no other way, I’m choosing the way of publicity because the sorrow and pain on behalf of the degrading german translation won’t let me come to rest.

I am angry with you, Dalmegh Singh. Very angry. All of my letters to you never got a response – as if I was but some little girl who should better be playing with her dolls instead of interfering with the affairs of important men and who shouldn’t be concerned in the least with the restoration of the honour of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ in Germany, because this comes under the suzerainty of Sikhs. But – nothing is done about it!

To refresh your memory:

On the 20th of June in 2009 I wrote for the first time a letter to Singh Bros. concerning the calamitous translation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ and sent the SGPC a copy of it.

Both remained without an answer. (The letter is enclosed as attachement.)

On the 13th of November 2009 you greeted me in your ofice in Amritsar. You told me, if I understood correctly, that in in German-speaking regions, no Gurdwara would be allowed to issue SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ to anybody.

On January the 9th in 2010 I wrote again a letter to Singh Bros. in Amritsar and sent you, Dalmegh Singh, a copy of this letter.

Both remained without an answer. (The letter is enclosed as attachement.)

Dalmegh Singh, it is the duty and the task of the Shiromani Gurdwara Prabandhak Committee in Amritsar, to ensure worldwide that the honour of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ remains basically unaffected.A lousy translation affects the honour of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ.

The statement of a Sikh living in Germany concerning the lousy translation was shortsighted and not comprehensible:

“The German translation of GURŪ GRANTH is not important to me. After all, it is not the original.”

Of course it is not the original – and the holiness and the spiritual nobility of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ in Gurbanī will forever remain unmatched.

So, a German translation can be as good as it wants – it will always remain only the try of an explanation of the spirituality of Sikhism, because our German language has a completely different structure. But a good translation for the better understanding of Sikhism is mandatory.

But a pathetic translation – like in this case – isn’t stringently associated with its translators but first of all with Sikhism because many people are not able tho think differentiated.

Dalmegh Singh, I have got German friends who accompany me on my way as a Sikh and who can’t understand the casualness towards GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ on your part as well as on the part of Sikhs living in Germany.

Above all because the Sikhs say about SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ:

It is the most holy book containing the word of GOD.

That it consists of three parts and has got the following meaning:

Gurū – the ultimate teacher, GOD, VAHIGURŪ

Granth – a holy book

Sāhib – the epitome of reverence

Please explain why this souldn’t be significant for a German translation, as well.

Recently, a German said to me:

„I read up about Sikhs in Germany. They seem to be politically quite active in their places of worship whereas they don’t seem to pray much. This makes it understandable that they don’t care about an embarassing translation of their holy book. What matters the most to them is that there is anything at all they can show as an alibi. Do you know what I mean? They quasi made their religion public via the German translation of the Granth and let the Granth sort of go along as a vicarious agent.”

SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ – as a vicarious agent!!!

That is not a desirable statement, is it?

Dalmegh Singh, if it is spoken like this only a single time about SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ it is countless times too much.

Dalmegh Singh, with this comes the unbelievable and bottomless brazenness that Singh Bros. in Amritsar dare to palm a book off to my German compatriots that abounds in mistakes and flaws. For 390,00 Euro! That’s an affront to my German compatriots. That’s another reason Singh Bros. should be pommeled with the book.

The spiritual damage caused by the catastrophic translation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ is huge. In addition, there is the laughter one can’t avoid, caused by many simply too funny mistakes in translation (I mention this not for the first time).

An important additional point: I want to stress here expressively that I take Dr Jarnail Singh who is named responsible as “translator” of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ in German for a gentleman. Dr Jarnail Singh can’t speak German and had the misfortune to fall for two lousy, irresponsible-acting translators who bear German names but who can’t be German native speakers. I feel sorry for Dr Jarnail Singh for what happened here from the bottom of my heart.

Dalmegh Singh, act finally! Make finally sure that the free-circulating faulty copies of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ are bought up and at least attempt the try that this translation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ is put on the index in Germany.

Because:

Nothing matters more than

SĀHIB ŚRI GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ.

Elisabeth Meru

The letter at hand was translated by a friend because my English is not sufficient

Elisabeth Meru’s Letter To the Singh Brothers, Sri Amritsar Sahib, dated 09.01.10

Elisabeth Meru

München – Deutschland

emeru@t-online.de

SINGH BROTHERS
Bazar Mai Sewan, Near Golden Temple,

Amritsar-143 006
S.C.O. 223-24,City Center, Amritsar-143 001

Panjāb – India

Munich, 09.01.10

Translation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ in German

Putting a stop to the borrowing from the German National Library

Dear Singh Brothers Publishers,

if I understood the Shiromani Gurdwara Prabandhak Committee correctly when I visited Amritsar on November 13th 09, it is not allowed any more to give out SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ for reading in German Gurdwaras.

That is a wonderful succes for the reestablishment of the honour of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ. But it is not enough.

1.

In the German National Library in Leipzig SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ is

still available for borrowing for common amusement. This has to be stopped. Concerning this aim, I did some preparations for you:

1. The German National Library will not give away any book they already got. Their system works like this.

2. But it is possible to put SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ on the Index by starting a lawsuit with the help of a lawyer.

3. To achieve this, all copies available for borrowing have to be checked to ascertain the grave mistakes (e.g. “Gurū Nānak Dev Jī preached the Gospel“) contained therein.

4. The books are located in Leipzig and have either to be inspected locally or have to be sent via interlending to any library in Germany to be inspected there.

5. Furthermore, a virtual catalogue research via the University Karlsruhe should be undertaken. This is a way to find out if this copies of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ are also available in other libraries or worldwide.

2.

There are German translations of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ for sale on

the German book market. They should be bought out by represantatives who

are appointed by you. To achieve this is it essential that you inform your representatives about the number of books that reached the German book market. This number wil serve as a guideline.

This is connected with much work and high costs. But:

Nothing matters more than SĀHIB ŚRI GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ.

3.

It has to be checked if translators Christa Zeller Thomas and Jutta Ohlmann are keeping a list of references on which they mention, amongst others, the translation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ.

If this should be the case it has to be barred because the translators inflicted a grave spiritual damage on Sikhism. A grave financial damage, too, if your publishing house wants to undertake further activites for the rehabilitation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ.

Just in case, I enclosed again the pages of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ I proofread.

Furhtermore, I enclose my correspondence in German with the German National Library for you. You can hand the entire process, as I described and arranged it above, some representative assigned by you. He can give this documents exactly like this to the assigned lawyer.

This is all I can do for SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ. On the one hand, I’m lacking financial means. On the other hand, in Germany, I am confronted with the situation that neither any Gurdwara in German-speaking countries nor any Sikh want to have dealings with me. At the time I asked ca. 30 Gurdwaras in German-speaking countries for help concdernig SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ. All but one Gurdwara remained silent. And the one who contacted me only insulted me in the worst way possible. Because I am a woman and, even worse, because I am a German.

All of this is not easy for me, but for the sake of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ and for the sake of Sikhism, I am enduring it.

If the situation wasn’t like this, I gladly would have inspected the copies of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ and I would have been available as intermediator for the lawyer and the court.

The fate of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ in Germany rests now in your hands.

Regards

Elisabeth Meru

Distribution list:

Shiromani Gurdwara Prabandhak Committee, Amritsar, E.G.P.S., Secretary, Dalmegh Singh

Guru Nanak Dev University, Amritsar, Dr. Gursharan Jit Singh

Elisabeth Meru’s Letter To the Singh Brothers, Sri Amritsar Sahib, dated 20.06.09

Elisabeth Meru

München – Deutschland

emeru@t-online.de

SINGH BROTHERS
Bazar Mai Sewan, Near Golden Temple,

Amritsar-143 006
S.C.O. 223-24,City Center, Amritsar-143 001
Panjāb – India

Munich, 20.06.09

Translation of SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ from English to German

from Nationalbibliothek, Frankfurt am Main

SAT SRĪ AKĀL dear Sirs,

my English is very baf but I try so good as I can.

At first I introduce myself: I´m a German woman, a Sikh and also a writer. For three years ago I had written with 8 Sikhs in Munich the book “Sikhs und Sikhismus, Religion, Riten und der Goldene Tempel”. And now you can see at the flyer that I had wrote a new book about/for Sikhism.

You are the publisher for SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ translated by Dr Jarnail Singh for the German market. And you don´t understand German hai na?

In march 2009 German visitors of the Munich Gurdwara are telling me that they were given GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ to read. And that they get a schock because it was full of nonsense. So I let the first book of GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ come from the Nationalbibliothek, Frankfurt am Main, and get also a schock.

The forerunner always has the most difficult work to do, and Dr. Jarnail Singh has done excellent pioneering and foundational work with a great amount of love. But –

what in the world made him employ the two incompetent translaters? And so I´m sure that Dr Jarnail Singh don´t understand German language and he had trust the two German woman. Jutta Ohlmann and Christa Zeller Thomas. One does not need to be able to do translation work, but one does need to know that he or she cannot do this work – that is what I reproach the two translators with. Even more: Where did the two woman learned their German? It is the level of very very uneducated people.

But let me explain one thing after the other:

The preface by Professor Joseph T. O`Connell is horrible. He should know that German neither write nor speak German like that.

I glad to see young Sikhs and those interested in Sikhism being given the chance to gain access to the SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ, but I cannot imagine the price of 280,00 Euro (by www.amazon.de the price is 390,00 Euro – sometimes is that an other and better translation?) being conductive to that end.

And for the universities who could pay that exorbitant price, the translation is woefully inadequate, as one knows its subject, but

1. one cannot quote from it, because much of it is nonsense
2. there is not a trace of diacritic markings
3. the Sikh terminology has been Christianized: LORD, GOD
4. what happened to SATGURŪ JĪ. To PRABŪ or IŚVĀR? To HARĪ or

HARKĀNĀM? With this Christianization of the Sikh terminology any

dialogue with Sikhs having access to the soucres is bound to fall. Or one

has to read two texts at two levels: The small children are given one inauthentic text to read, the older children are given the authentic text.

Dr Jarnail Singh

has entrusted the translation to two totally incompetent translatros who

donot have the slightest idea of Indology and are therefore unable to take the Gurmukhī and the Hindī into account, and who know nothing whatever about Skhism.

Dr Jarnail Singh has failed to check and proofread the translators´work, had be done so, he would have found that they

treat the Gurūs without respect in writing, e.g.,

“Nānak”, Rām Dās”, “Hargobind” as if they were the boys next door,

instead of Gurū Nānak Dev Jī, Gurū Rām Dās and so on.

The Gurū… without a name would be appropriate.

write “Herr”, which is “Mister” in German, instead of the appropriate

“HERR”, which is “LORD” in German. So it means Herr Miller – Mister Miller, but the LORD isn´t Herr Miller = Mister Miller isn´t he?

write “du” (you) instead the correct capitalized “DU”. You can´t write it so in German.

keep writing “God” instead of the capitalized GOD.

fail to capitalize “he”, “his” and so on when referring to GOD.

do include the word Bhagat.

insert modern words like “piety”, “interest”, “continuity”, “frustrated”, “employee”, “information”, flatulence” (nobody in Germany know the last word) into an old work.

use the word “angel”.

use the phrases “apostolic seat” and “Nānak preached the Gospel” – this is pure Christianity.

All this is imposible in a translation for German readers.

SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ should be taken off the German market as this translation shows Sikhs ridiculing Sikhism. I will phrases it strongly: If you suffer from depression, you will become well reading the SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ because you must to much laughing. If you do not suffer from depression, you will after reading the translation because you must so much weeping.

I think the translation is from English to German. That is not rigth. If SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ is to be translated into German, it needs to be a translation from the original soucres and using the help of Indologists and Linguists – we German are used to reading very carefully. This is a work for two or four years and for this it need a lot of money.

Dear Sirs –please you will phone to the Gurdwara Munich that they never given SRĪ GURŪ GRANTH SĀHIB JĪ for reading? The head of the Gurdwara is Tarsem Singh. The number mus´t be 0049 / 89 / 324 40 04. I can´t do it by myself because I had since 05-07 stay away order from the Gurdwara. Tarsem Singh hunting me during the part because I don´t want to by politically instrumentalized by man and his fellows. Shaayad he wants to tell you the whole story.

But you can also ask Roop Singh, Personal Secretary from the SGPC in Amritsar about me.

Sādar namaskar

Elisabeth Meru

Farewell Mohali…

More Pictures

At last, the day came when I said ‘Vida’ (farewell) to the city of Sahibzada Ajit Singh Nagar, generally known as ‘Mohali’. I was more or less two years old, when my father late Bhai Avtar Singh Ji was appointed the head priest in Gurdwara Sri Guru Singh Sabha, Phase first of the city of Mohali. So, he moved to this city with our family.

Farewell to the city of Mohali

The God Almighty gave me so much throughout my stay in this city. I am forever grateful to Him for his blessings.

The God Almighty, at the same time, took away from me all the family members and other close relatives, one by one. After 35 years of my stay in this city, I became ‘the one member family’. We have got to accept the Will of the God.

After staying for 35 years in the city of Sahibzada Ajit Singh Nagar (Mohali), I decided to say Good Bye to it.

I am very thankful to the God Almighty, Who gave me the opportunity to live in this city for so long. I am very thankful to the city of Sahibzada Ajit Singh Nagar (Mohali), which is indeed a beautiful and lovely city to live in. I am very thankful to residents of the city, who are kindhearted and caring. I am very thankful to all my neighbors who were always ready to lend a hand to me. I am very thankful to all of my friends and well-wishers living in this city, who sided with me in my difficult times.

May the God Almighty bless the city of Sahibzada Ajit Singh Nagar (Mohali) and all of its residents!

More Pictures